Mere Nasib Ka Likha

Mere Nasib Ka Likha - Bewafa Shayari



मेरे नसीब का लिक्खा बदल भी सकता था
वो चाहता तो मेरे साथ चल भी सकता था
ये तूने ठीक किया अपना हाथ खींच लिया
मेरे लबों से तिरा हाथ जल भी सकता था
मैं ठीक वक़्त में ख़ामोश हो गया वरना
मिरे रफ़ीकों का लहेजा बदल भी सकता था

merre nasib ka likha badal bhi sakta tha
wo chahta to mee sath chal bhi sakta tha
ye tune thik kiya apna hath khinch liya
mere labon se tera hath jal bhi sakta tha
mai thik waqt mein khamosh ho gya warna
mee rafikon ka lehja badal bhi sakta tha

Comments

Post a Comment

Popular Posts