Skip to main content

Featured

Uski Masrufiyat Mera Intzaar

सब उसकी., मसरूफियत में शामिल हैं...!! बस एक ., मुझ  बे-ज़रूरी के सिवा.....!! #Uski Masrufiyat 

हजारों जख्म - Hjaron jakham

फूलो को जहा खिलना था 
वहीं खिलते तो अच्छा था ।
हमने तुम्हीं को चाहा था 
तुम्हीं मिलते तो अच्छा था 
हजारों ज़ख्म जिंदगी में मिले है 
तुम्ही सिलते तो अच्छा था

Comments

Popular Posts