21 July, 2020

Zindagi Se Rooth Gye

ज़िन्दगी से क्यों रूठ गए हो तुम,
इतने मायूस क्यों हो गए हो तुम,
ज़रूर तुम्हारा भी किसी ने दिल तोड़ा है,
जो इतने ग़म-गीन हो गए हो तुम।

0 comments

Post a Comment