09 September, 2019

पलकों पे आज

गुड़ नाईट शायरी - नींद दिवस शायरी - Good Night Shayari
पलकों पे आज नींद की किर्चें बिख़र गईं,
शीशे की आँख में कोई पत्थर का ख़्वाब है।

** गुड़ नाईट शायरी - नींद दिवस शायरी - Good Night Shayari

0 comments

Post a Comment