Skip to main content

Featured

तेरे दर पर

तेरे दर तक आ पहुंचे हम….!! अपना पीछा करते-करते….!!

वक्त शायरी - Waqt Shayari

Waqt Badalna Shayari, वक्त पर बदलना शायरी
बदल जाओ वक्त के साथ
या फिर वक्त बदलना सीखो
मजबूरियों को मत कोसो
हर हाल में चलना सीखो

Comments

Popular Posts