इतनी बदसलूकी

Life Shayari, Zindagi Imtihaan Shayari

इतनी बदसलूकी ना कर ऐ जिदंगी,
हम कौन सा यहाँ बार बार आने वाले है,
सुना है जिदंगी इम्तहान लेती है,
यहाँ तो इम्तहानों ने जिदंगी ले रखी है|

Comments

Popular Posts