20 March, 2019

चलो घर चलते हैं..

होली शायरी, Holi Kavita Poem Shayari

आँखों में हमारे भी कुछ सपने पलते हैं,
अब उनसे कुछ दिन बाद मिलते हैं,
होली की छुट्टी आ गई यारो,
सूनी गलियों में गुलाल बरसाने ..
चलो घर चलते हैं.. चलो घर चलते हैं..

Happy Holi - होली मुबारक हो


0 comments

Post a Comment