10 January, 2019

परवाह शायरी

परवाह शायरी - Parwah Shayari

दौलत नहीं, शोहरत नहीं
ना वाह वाह चाहिये...
कहाँ हो ?  कैसे हो ?
दो लब्जो की परवाह चाहिये।।

0 comments

Post a Comment