01 December, 2018

हम खाक-ए-जमी - Sad Shayari

हम खाक-ए-जमी - Sad Hasrat Shayari
हम खाक-ए-जमी होकर के
एक चाँद की हसरत कर बैठे
वो चीज बहुत ही ऊंची थी
हम जिससे मोहब्बत कर बैठे

0 comments

Post a Comment