13 November, 2018

कहीं दिन उगा - Safar Shayari

कहीं दिन उगा - Safar Shayari
कहीं दिन उगा तो कहीं रात हो गयी,
कभी कुछ न बोले, कभी बात हो गयी,
कहीं दूर तलक न साये दिखे,
कहीं दूर सफर तक साथ हो गयी,
कभी डरती डरती चली थी सफर में,
अब चलते चलते  बेबाक हो गयी..

0 comments

Post a Comment