11 अक्तूबर, 2018

मोहब्बत से जवानी का

मोहब्बत से जवानी का - महोब्बत से भरी शायरी पढें.
मोहब्बत से जवानी का पुलिंदा बच नहीं सकता ।
शिकारी आप जैसा हो परिंदा बच नहीं सकता।
कटारी से भले ही इक दफ़ा ज़िंदा ही बच जाऊँ,
निगाहों से जो मारोगे तो ज़िंदा बच नहीं सकता ।

0 टिप्पणियाँ

एक टिप्पणी भेजें