05 सितंबर, 2018

माना कि तुम जीते

माना कि तुम जीते  - Love Shayari
माना कि तुम जीते हो ज़माने के लिये,
एक बार जी के तो देखो हमारे लिये,
दिल की क्या औकात आपके सामने,
हम तो जान भी दे देंगे आपको पाने के लिये |

0 टिप्पणियाँ

एक टिप्पणी भेजें