20 August, 2018

हसीनों के सितमो

हसीनों के सितमो पर पढें ये हिन्दी शायरी
हसीनों के सितम को मेहरबानी कौन कहता है
अदावत को मोहब्बत की निशानी कौन कहता है
बला है क़हर है आफ़त है फ़ित्ना है क़यामत का
हसीनों की जवानी को जवानी कौन कहता है

0 comments

Post a Comment