20 मई, 2018

हर एक बात पर

हिन्दी दिल का दर्द, जुदाई, हकीकत पर शायरी
हर एक बात पर वक़्त का तकाजा हुआ,
हर एक याद पर दिल का दर्द ताजा हुआ,
सुना करते थे ग़ज़लों में जुदाई की बातें,
खुद पे बीती तो हकीकत का अंदाजा हुआ।

0 टिप्पणियाँ

एक टिप्पणी भेजें