20 मई, 2018

अभी से मिलना

हिन्दी दर्द, जुदाई, तन्हाई शायरी। Dard, Judai, Tanhai Hindi Shayari
अभी से मिलना छोड़ दिया है जानम,
इब्तिदा में ऐसा करोगे तो साथ क्या निभाओगे
दिल के टुकड़े दिल से जुदा नहीं होते
अगर दुनिया बेवफा है तो बेवक़फ़ा नहीं होते
गरीब समझ कर उठा दिया उसने अपनी महफ़िल से
क्या चाँद की महफ़िल में सितारे नहीं होते

2 टिप्पणियाँ:

  1. कुछ भुला नहीं पाता सब याद रहता है ,
    मोहब्बत करने वाला इसलिए बर्बाद रहता है ||

    More such heart touching shayari on: http://andaaz-e-shayari.com/posts/love-shayari
    http://andaaz-e-shayari.com

    उत्तर देंहटाएं