कभी हस लिये

Yaad, Udassi and Sad Hindi Shayari, Tanhai Hindi shayari

कभी हस लिये तो कभी मुस्कुरा दिये।
जब हुए उदास तन्हाई मे रो लिये।।
सुनाने से दास्तां अपनी, अपनी ही रुसवाई थी।
कुछ छुपा ली हमने, कुछ पन्नो पे सजा दिये।।

Comments

Popular Posts