Skip to main content

Featured

Uski Masrufiyat Mera Intzaar

सब उसकी., मसरूफियत में शामिल हैं...!! बस एक ., मुझ  बे-ज़रूरी के सिवा.....!! #Uski Masrufiyat 

तेरे हर गम को

तेरे हर गम को  - Love Hindi Shayari

तेरे हर #गम को अपनी रूह में उतार लूँ,
ज़िन्दगी अपनी तेरी #चाहत में संवार लूँ,
मुलाकात हो तुझसे कुछ इस तरह #मेरी,
सारी उम्र बस एक #मुलाकात में गुज़ार लूँ।

Comments

Popular Posts