20 सितंबर, 2017

​न​ज़​रे​ मिले तो - Love Shayari

​न​ज़​रे​ मिले तो - Love Shayari in Hindi Language
न​ज़​रे​ मिले तो प्यार हो जाता है,
पलके उठे तो इज़हार हो जाता हैं,
ना जाने क्या कशिश हैं चाहत में,
कि कोई अनजान भी हमारी,
जिंदगी का हक़दार हो जाता है।

0 टिप्पणियाँ

एक टिप्पणी भेजें