01 August, 2017

सभी भाभीयो को समर्पित

सभी भाभीयो को समर्पित हिन्दी शायरी


बेटियों की तो हर कोई तरीफ करता है मगर भूल जाते है की भाभीया भी किसी की बेटीयाँ होती है
सभी भाभीयो को समर्पित है ये हिन्दी शायरी😊


छोटी हो या बडी, काम आती है सभी ।                            
चले है उसी से पीहर, वह है घर की लीडर ।
बेटो से न चला हैं घर-संसार,
भाभियाँ चलाती है घर - परिवार,
वह भी होती है आधी हकदार ।
करो उनकी गलतियों को नजरअंदाज,
जैसे हम सब से  होती है गलतियाँ आज।
मान - सम्मान से रखो उन्हें,
क्योंकि माँ के बाद भाभी का ही स्थान है ।
छोटी हो या बडी, भाभी होती है भाभी।


जिस आँगन को सूना छोड़ आती है बेटिया,
उस आँगन कि रोनक होती है भाभीया,
बेटी है जिस आँगन कि कलिया,
उस आँगन का फ़ूल, होती है भाभीया
कलि को भी एक दिन फ़ूल बनना होता है
अपने आँगन से निकल कर कहीं ओर सजना होता है,
पिहर कि हर चीज़ पराइ, नियम समाज का होता है,
उस पराऐपन मे अपना अहसास कराती भाभीया,
मा बाप का रखती ख्याल, भैय्या का देती है साथ..
अंत मे माँ कि जगह ही तो ले लेती है भाभीया


भैय्या का तुम प्यार हो भाभी,
मा बाप का सम्मान हो तुम,
हमारा भी अभीमान हो भाभी,
ये मान संजोये रखना तुम।



0 comments

Post a Comment