11 अगस्त, 2017

मेरी मोहब्बत से आज

मेरी मोहब्बत से आज
मेरी मोहब्बत से आज इतनी अनजान क्यों है
देकर जख्म मुझको इतनी नादान क्यों है
पल पल जिंदा हूं तेरी यादों के सहारे
मुझे जिंदा देखकर इतनी परेशान क्यों है

0 टिप्पणियाँ

एक टिप्पणी भेजें