11 August, 2017

दिल का हर दरवाज़ा

हिन्दी दर्द भरी शायरी -  दिल का हर दरवाज़ा खोलकर
दिल का हर दरवाज़ा खोलकर,
इसमें बसने वालों को,
बाहर निकालना चाहता हूं,
दुनिया में तो सब बेवफा मिले मुझको,
अब मैं मौत को आजमाना चाहता हूं..

0 comments

Post a Comment