03 October, 2016

रात गुमसुम - Jaam-e-Ishq Shayari

रात गुमसुम हैं मगर चाँद खामोश नहीं !
कैसे कह दूँ फिर आज मुझे होश नहीं !!
ऐसे डूबा तेरी आँखों के गहराई में आज !
हाथ में जाम हैं, मगर पिने का शोंक नहीं !!

0 comments

Post a Comment