20 September, 2016

टकरा पाये हमसे - Warning To Pakistan in Shayari

टकरा पाये हमसे कोई , किसमें इतना दम है,
हिंदुस्तानी माँ का बेटा , जग में किससे कम है,
गीदङ भभकी से ङर जाये , वो भारत की संतान नहीं,
हम शेर हैं दुनिया के, शायद तुम्हें पहचान नहीं,
कान खोल कर सुन ले दुश्मन , चेहरे का खोल बदल कर रख देंगे,
जो बीता, इतिहास हुआ , अबके भूगोल बदल कर रख देंगे,
युद्ध अगर इस बार हुआ, तो युद्ध विराम नहीं होगा,
कश्मीर जहाँ है वहीँ रहेगा, पर पाकिस्तान नहीं होगा.

5 comments:

  1. 🇮🇳!!जय हिन्द!!🇮🇳
    🙏🙏न अपनों से खुलता है, न ही गैरों से खुलता है......!!🙏🙏
    🌸🌸ये जन्नत का दरवाज़ा है, माँ के पैरो से खुलता है.....!!🌸🌸
    👏👏👏👏👏👏👏👏
    🇮🇳!!वंदे मातरम!!🇮🇳

    ReplyDelete
  2. 🇮🇳!!जय हिन्द!!🇮🇳
    🙏🙏न अपनों से खुलता है, न ही गैरों से खुलता है......!!🙏🙏
    🌸🌸ये जन्नत का दरवाज़ा है, माँ के पैरो से खुलता है.....!!🌸🌸
    👏👏👏👏👏👏👏👏
    🇮🇳!!वंदे मातरम!!🇮🇳

    ReplyDelete
  3. टकरा पाये हमसे कोई , किसमें इतना दम है,
    हिंदुस्तानी माँ का बेटा , जग में किससे कम है,
    गीदङ भभकी से ङर जाये , वो भारत की संतान नहीं,
    हम शेर हैं दुनिया के, शायद तुम्हें पहचान नहीं,
    कान खोल कर सुन ले दुश्मन , चेहरे का खोल बदल कर रख देंगे,
    जो बीता, इतिहास हुआ , अबके भूगोल बदल कर रख देंगे,
    युद्ध अगर इस बार हुआ, तो युद्ध विराम नहीं होगा,
    कश्मीर जहाँ है वहीँ रहेगा, पर पाकिस्तान नहीं होगा.

    ReplyDelete