17 September, 2016

वक्त नूर को - Waqt K Maro Par Likhi Hindi Shayari

वक्त नूर को बेनूर कर देता है,
छोटे से जख्म को नासूर कर देता है,
कौन चाहता है अपने से दूर होना,
लेकिन वक्त सबको मजबूर कर देता है !

1 comments: