15 September, 2016

मै मुहोब्बत तेरी - Mohobat Bhari Hindi Shayari

मै मुहोब्बत तेरी - Mohobat Bhari Hindi Shayari
मै मुहोब्बत तेरी, न जाऊँ छोड़ के,
  यह नाते, ये रिश्ते, निभाऊ जोड़ के,
एक तराना तेरे लब पर, सजता रहे,
  ददॅ उल्फत का सीने में, ऊठता रहे,
इक माला के मोती, मैं न जाऊँ तोड़ के,
  बिखरा के तुझको, मैं न जाऊँ छोड़ के,
बंदगी में तु याद, मुझ को करता रहे,
  कभी रोता रहे, कभी हॅसता रहे,
जिँदगानी हूँ तेरी, मै न जाऊँ छोड़ के,
  यह नाते, यह रिश्ते, निभाऊॅ जोड़ के..

0 comments

Post a Comment