06 July, 2016

दर्द आज भी हैं

दर्द आज भी हैं - Dard Bhari Shayari in Hindi
दर्द आज भी हैं, जख़्म भले ताज़ा नही हैं ।
झाँक कर देख लो सीने में दरवाजा नही हैं ।
मेरी हँसी को अगर तुम हँसी समझते हो,
तो तुझे शायद मेरी हालात का अंदाजा नही हैं। ‪

0 comments

Post a Comment