21 June, 2016

अजनबी ख्वाहिशें - Ek Adhura Ishq

Adhure Payar Ke Liye Hindi Shayari
अजनबी ख्वाहिशें सीने में दबा भी न सकूँ,
ऐसे जिद्दी हैं परिंदे के उड़ा भी न सकूँ !
फूँक डालूँगा किसी रोज ये दिल की दुनियाँ,
ये तेरा खत तो नहीं है कि जला भी न सकूँ !

0 comments

Post a Comment