19 May, 2016

कभी ग़म - Judai Shayari

Payar Mein Judai - Hindi Shayari
कभी ग़म तो कभी तन्हाई मार गयी,
कभी याद आ कर उनकी जुदाई मार गयी,
बहुत टूट कर चाहा जिसको हमने,
आखिर में उनकी ही बेवफाई मार गयी।

0 comments

Post a Comment