01 अप्रैल, 2016

न मेरा , न तेरा

न मेरा एक होगा न तेरा लाख होगा,
न तारिफ तेरी, न मेरा मजाक होगा,
गुरुर न कर शाह-ए-शरीर का ,
मेरा भी खाक होगा, तेरा भी खाक होगा ।।

0 टिप्पणियाँ

एक टिप्पणी भेजें