27 March, 2016

Romantic Hindi Shayari in Two Lines

खुदको बिखरने मत देना कभी किसी हाल में ,
लोग गिरे हुए मकान की इंटे तक ले जाते है…..!!!

वादों से बंधी जंजीर थी जो तोड़ दी मैँने,
अब से जल्दी सोया करेँगेँ,मोहब्बत छोड़ दी मैँने.!!

जिस तरह गुजर जाती है हर रात सुबह आने के बाद,
तुम भी यूँ ही मान जाना रुठ जाने के बाद !!!!

कुछ दिन से ज़िन्दगी मुझे पहचानती नहीं...
यूँ देखती है, जैसे मुझे जानती नहीं...

दिल मे छुपा रखी.. है मुहब्बत काले धन की तरह…
खुलासा नही करता हू कि कही हंगामा ना हो जाये...

मत पूछो कैसे गुजरता है हर पल तुम्हारे बिना,
कभी बात करने की हसरत कभी देखने की तमन्ना !!

ये इश्क़ भी बड़ा नामुराद होता है...
उसी से होता है जो किसी और का होता है..!!

ख़ंजर पे कोई दाग न दामन पे कोई छींट ?
तुम क़त्ल करते हो ! के करामात करते हो

0 comments

Post a Comment