21 March, 2016

Motivational Life Shayari in Hindi

यूँ ज़मीन पर बैठकर क्यूँ आसमान देखता है,
पँखों को खोल, ज़माना सिर्फ उड़ान देखता है,
लहरोँ की तो फितरत ही है शोर मचाने की..
मंज़िल उसी की होती है, जो नज़रों में तुफान देखता है।।

0 comments

Post a Comment