20 March, 2016

मोहब्बत से रिहा

मोहब्बत से रिहा होना ज़रूरी हो गया है..!!
मेरा तुझसे जुदा होना जरूरी हो गया है,,
वफ़ा के तुज़ुर्बे करते हुए तो उम्र गुज़री है,,
ज़रा सा बेवफा होना जरूरी हो गया है..!!

0 comments

Post a Comment