13 March, 2016

उतर के देख

उतर के देख मेरी चाहत की गहराई में,
सोचना मेरे बारे में रात की तनहाई में,
अगर हो जाए मेरी चाहत का एहसास तुम्हे,
तो मिलेगा मेरा अक्स तुम्हें अपनी ही परछाई में!!

0 comments

Post a Comment