09 February, 2016

तेरी गली

कभी गुलाब लगती है,
कभी शबाब लगती है,
तेरी आँखें हमें बहारों का ख्बाब लगती है
मैं पिऐ रहु या न पिऐ रहु,
लड़खड़ाकर ही चलता हुँ
क्योकि तेरी गली कि हवा ही,
मुझे शराब लगती है..
-- Happy Teddy Day

0 comments

Post a Comment