13 February, 2016

तुम्हारी मुस्कुराहट

तुम्हारी मुस्कुराहट में मेरा भी हिस्सा हो,
तुम बनो जो किताब मेरा भी किस्सा हो।
जो गीत गुनगुनाओ दो बोल मेरे हों,
और सुर संग तुम्हारे साज मेरा हो।
आंसूओं पर तुम्हारे एक हक मेरा हो,
जो वजह बने कोई वो दर्द मेरा हो।
सफर पर निकलो तुम बेखौफ हो के..
जो लोग कम पड़ें तो संग मेरा हो..

0 comments

Post a Comment