15 फ़रवरी, 2016

एक सैनिक ने

 एक सैनिक ने क्या खूब कहा है.....
किसी गजरे की खुशबू को महकता छोड़ के आया हूँ,
मेरी नन्ही सी चिड़िया को चहकता छोड़ के आया हूँ,
मुझे छाती से अपनी तू लगा लेना ऐ भारत माँ,
मैं अपनी माँ की बाहों को तरसता छोड़ के आया हूँ।

0 टिप्पणियाँ

एक टिप्पणी भेजें