14 December, 2015

जिन्दगीं में - Shayari for Mother's Love

जिन्दगीं में उस का दुलार काफी हैं,
सर पर उस का हाथ काफी हैं,
दूर हो या पास…क्या फर्क पड़ता हैं,
माँ का तो बस एहसास ही काफी हैं !

0 comments

Post a Comment