07 नवंबर, 2015

मोहब्बत मुक्कदर है - Love Hindi Shayari

मोहब्बत मुक्कदर है - Love Hindi Shayari
मोहब्बत मुक्कदर है कोई खवाब नहीं,
ये वो अदा है जिसमें सब कामयाब नहीं,
जिन्हें पनाह मिली उन्हें उंगलियों पे गिनो,
जो बर्बाद हुऐ उनका हिसाब नहीं....

0 टिप्पणियाँ

एक टिप्पणी भेजें