07 August, 2015

Prem Deh Ka - प्रेम देह का

Prem Deh Ka - प्रेम देह का (Love Shayari)
प्रेम देह का मिलन नहीं है, प्रेम दिलों का जुड़ना है
चोटी पर चढ़कर मैं सोचूँ, आगे बढूँ कि मुडना है ?
समझ मुझे समझाती है ये, रुक जाओ,गिर जाओगे,
प्रेम कह रहा, पंख पसारो, नीलगगन तक उड़ना है..

rajput hu

1 comments:

  1. देखे दुनिया के सबसे बेहतरीन ब्लॉग में से एक ब्लॉग http://www.guruofmovie.com

    ReplyDelete