Prem Deh Ka - प्रेम देह का

Prem Deh Ka - प्रेम देह का (Love Shayari)
प्रेम देह का मिलन नहीं है, प्रेम दिलों का जुड़ना है
चोटी पर चढ़कर मैं सोचूँ, आगे बढूँ कि मुडना है ?
समझ मुझे समझाती है ये, रुक जाओ,गिर जाओगे,
प्रेम कह रहा, पंख पसारो, नीलगगन तक उड़ना है..

rajput hu

Comments

  1. देखे दुनिया के सबसे बेहतरीन ब्लॉग में से एक ब्लॉग http://www.guruofmovie.com

    ReplyDelete

Post a Comment

Popular Posts