Skip to main content

Featured

Uski Masrufiyat Mera Intzaar

सब उसकी., मसरूफियत में शामिल हैं...!! बस एक ., मुझ  बे-ज़रूरी के सिवा.....!! #Uski Masrufiyat 

Kuch Rishte Ta Umar

Kuch Rishte Ta Umar
कुछ रिश्ते ता उम्र अगर बेनाम रहे तो अच्छा है,
आँखों आँखों में ही कुछ पैगाम रहे तो अच्छा है,
सुना है मंज़िल मिलते ही उसकी चाहत मर जाती है,
गर ये सच है तो फिर हम नाकाम रहें तो अच्छा है,
जब मेरा हमदम ही मेरे दिल को न पहचान सका,
फिर ऐसी दुनिया में हम गुमनाम रहे तो अच्छा है..

Comments

  1. देखे दुनिया के सबसे बेहतरीन ब्लॉग में से एक ब्लॉग http://www.guruofmovie.com

    ReplyDelete
  2. very nice shayari, i appreciate it you may also like some of our Jealousy Quotes

    ReplyDelete
  3. wow great Jealousy Quotes and shayari from your website i appreciate it. the work done my admin is fabulous.

    ReplyDelete

Post a Comment

Popular Posts