07 May, 2015

Tute Huye Dil Se Kuch Batein

भीगी भीगी सी ये जो मेरी लिखावट है..
स्याही में थोड़ी सी, मेरे अश्कों की मिलावट है...!!



अब शिकायत तुझसे नहीं, खुद से है..
माना की सारे झूठ तेरे थे,
पर उनपे यकीं तो मेरा था...!!

0 comments

Post a Comment