05 December, 2014

Rasm-e-Wafa Nibhana - Love Hindi Shayari

रस्मे वफ़ा निभाना तो ग़ैरत की बात है,
वो मुझको भूल जाएँ ये हैरत की बात है,
सब मुझको चाहते हैं ये शोहरत की बात है,
मैं उसको चाहती हूँ ये किस्मत की बात है.. 

0 comments

Post a Comment