12 November, 2014

Jante Ho Sab Fir Bhi - Love Shayari

जानते हो सब फिर भी अनजान बनते हो।,
इसी तरह रोज मुझे परेशान करते हो......
पूछते हो मुझसे कि तुमको क्या पसंद है ,
खुद जवाब होकर सवाल करते हो......