10 November, 2014

Isaq Ka Bazzar Hai - Love Hindi Shayari

इश्क का बाज़ार है बेहिचक खरीदिये।
कहीं गम है कहीं ख़ुशी कुछ तो समेटिये।।
यहाँ है हर वक़्त मिजाज़-ए-दीवानगी।
दिल से दिल मिलाईये सौदा न कीजिये।।
होठों को मनाही नहीं, आँखों से भी पीजिए।
इश्क का जाम है जरा सब्र तो कीजिये।।
ये महफ़िल यूँ ही चलेगी दौरे-ए-वक़्त तक।
अपने इश्क को सरेआम कुबूल तो कीजिये।।

1 comments:

  1. After seeing your article review I am very much relax now Actually I was looking for these kind of article from long time nice review done please come on my blog http://guruofmovie.com and share some review for my bog.

    ReplyDelete