22 November, 2014

Hum Hindustani & I'm Hindu

रक्त में उबाल हो, क्रोध की मशाल हो !
धड़कने भड़क रही, जैसे कि भूचाल हो !!
माँ भारती पुकारती, कहाँ पे मेरे लाल हो !
यदि मेरा ख्याल हो, न द्वंद न सवाल हो !!
रक्त से करो श्रृंगार, आँचल ये मेरा लाल हो !
विजयी तुम्हारा भाल, और शत्रु का कपाल हो !!
असुरजनों का अंत हो, हों तो मात्र संत हो !
धर्म हो सुपंथ हो, सृजन हो न कि अंत हो !!
उठो उठो बढ़ो बढ़ो, बढ़ो बढ़ो बढे चलो !
लगा लो मृत्यु कंठ से, लौह में ढले चलो !!
विजय की भोर हो सदा, ना हार की निशीथ हो !
ह्रदय में एक भाव हो, हिन्दू धर्म की ही जीत हो !!

0 comments

Post a Comment