12 October, 2014

Mere Ghar Ayi - Save Girls

मेरे घर आयी एक नन्ही परी,
चांदनी के हसीन रथ पे सवार..
उस के आने से मेरे आँगन में,
खिल उठे फूल, गुनगुनायी बहार..
देख कर उस को जी नहीं भरता,
चाहे देखू उसे हजार बार..
मैंने पूछा उसे के कौन हैं तू,
हँस के बोली के मैं हूँ तेरा प्यार..
मैं तेरे दिल में थी हमेशा से,
घर में आयी हूँ, आज पहली बार..