18 September, 2014

Meri Aankhon Ke Samandar Mein - Love Shayari

मेरी आँखों के समंदर में जलन कैसी है,
आज फिर दिल को तडपने की लगन कैसी है,
अब इस राह पे चिरागों की कतारे भी नहीं,
अब तेरे शहर की गलियों मे घुटन कैसी है..



Meri Aankhon ke Samandar mein Jalan kaisi hai,
Aaj phir dil ko Tarapne ki Lagan kaisi hai,
Ab Is raah pe Chiraghon ki Qatarein bhi nahi,
Ab tere Shehar ki Galiyon mein Ghutan kaisi hai..

2 comments:

  1. देखे दुनिया के सबसे बेहतरीन ब्लॉग में से एक ब्लॉग http://www.guruofmovie.com

    ReplyDelete