08 अगस्त, 2014

Na Jane Tum Pe Itna

ना जाने तुम पे इतना यकीन क्यों है?
तेरा ख्याल भी इतना हसीन क्यों है ?
प्यार का दर्द मिठा होता है...
तो आँख से निकला ये आँसु नमकीन क्यों हैं ?

1 टिप्पणियाँ: