Skip to main content

Featured

Uski Masrufiyat Mera Intzaar

सब उसकी., मसरूफियत में शामिल हैं...!! बस एक ., मुझ  बे-ज़रूरी के सिवा.....!! #Uski Masrufiyat 

Chirag Se Na Pucho - Hindi Shayari

चिराग से न पूछो बाकि तेल कितना है;
सांसो से न पूछो बाकि खेल कितना है !!
पूछो उस कफ़न में लिपटे मुर्दे से;
जिन्दगी में गम और कफ़न में चैन कितना है !!

Comments

Post a Comment

Popular Posts