12 February, 2014

Ek Koshish Aur Kar

एक कोशिश और कर, बैठ न तू हार कर,
तू है पुजारी कर्म का, थोडा तो इंतजार कर,
विश्वास को दृढ बना, संकल्प को कृत बना,
एक कोशिश और कर, बैठ ना तू हार कर..।।